Modi Govt. cancelled registration of 1 Lakh companies involved in violation of laws

0
94

The Prime Minister, Narendra Modi delivering his address at the Chartered Accountants’ Day celebrations, at IGI stadium, in Delhi on July 1, 2017. Photo: PIB

India CSR News Network

NEW DELHI: One lakh companies who have been found to be in violation of laws, have been removed from the Register of Companies. The Prime Minister, Shri Narendra Modi, on Saturday said while addressing a large gathering in New Delhi on the occasion of Chartered Accountants’ Day. He reiterated that the Union Government has taken bold decisions in national interest. He said that as many as three lakh companies have come under the scanner, in the course of inspecting the data mined after demonetization. Prime Minister talked in Hindi.

In an address seen live across multiple locations throughout the country, on the first day of the roll-out of Goods and Services Tax, the Prime Minister described Chartered Accountants as doctors for the economic health and well-being of society.

He also compared them to the saints and sages of the economic world.

Addressing the event organised by the Institute of Chartered Accountants of India (ICAI), Modi said “India’s Chartered Accountants are known the world over for their excellent financial skills.”

The Prime Minister said that while the country has the capacity to recover from any setback, its development is seriously impacted when a small section of people start indulging in corrupt practices.

He recounted the various steps, including demonetization, taken by the Union Government in the last three years, against black money, and to bring elements indulging in corruption, to book.

The Prime Minister called upon Chartered Accountants to introspect and weed out corrupt practices and persons from their fraternity. Giving statistics about income declarations by the people during filing of returns, the Prime Minister urged Chartered Accountants to keep national interest supreme, while advising their clients.

He reminded the gathering of the large number of professionals, including lawyers, who had played a key role in the freedom struggle, and urged the Chartered Accountants to follow in their footsteps, and advise their clients to follow the path of honesty, as the country ushers in a new era of economic integration, with the Goods and Services Tax.

He said that the entire country reposes faith in the certification of Chartered Accountants, and said that this faith and trust should never be broken.

He explained how the tax paid by taxpayers plays a crucial role in welfare of society, and development of the nation.

He urged Chartered Accountants to think about the goals that they can set for their profession in 2022, the 75th anniversary of India’s independence. Talking about the Big 4 auditing firms worldwide, he urged India’s Chartered Accountants to work towards creating the next big 4 global auditing firms.

Quoting Chanakya, the Prime Minister urged Chartered Accountants to not let this opportunity slip, and invited them to join the mainstream of nation-building.

Here is the text of some portion of the speech of Prime Minister:

“साथियों कालेधन के खिलाफ इस सफाई अभियान के दौरान मैं पहली बार कुछ बातें आज आपके सामने शेयर कर रहा हूं। क्योंकि आप आप उस बात की ताकत बराबर समझते हैं। सरकार ने बैंकों में जो पैसे जमा हुए उसका डाटा माइनिंग के लिये एक बहुत बड़ी व्य़वस्था खड़ी की। लगातार डाटा माइनिंग चल रहा है। कहां से रुपया आए, कहां जमा हुए, कहां गए, कैसे गए, 8 नवम्बर के बाद क्या क्या हुआ, बहुत कुछ चल रहा है। ये जो डाटा माइनिंग चला है अभी हमने किसी को पकड़ के पूछताछ नहीं की है। सिर्फ आंकड़े का अध्ययन किया है। मेरे प्यारे साथियों मैंने पहले ही कहा आपकी देश भक्ति मेरी देश भक्ति से जरा भी कम नहीं है। लेकिन आप देखिए तीन लाख से ज्यादा मैं आज पहली बार ये सारी बातें बता रहा हूं। देश ये सुनकर के चौंक जाएगा। तीन लाख से ज्यादा कंपनियां रजिस्टर्ड कंपनियां ऐसी सामने दिखाई दी है जिनकी सारी लेनी देनी शक के घेरे में है। सवालों के घेरे में उन पर सवालिया निशान लगा है। और ये जितना माइनिंग हुआ है उसमें से काफी माइनिंग बाकि है।”

“ये तीन लाख से कहां बढ़ेगा मैं कह नहीं सकता। और जब उनकी जांच शुरू की तो कुछ चीजें गंभीर रूप में पाई गई है। एक आंकड़ा मैं बता रहा हूं शायद आपको इस सरकार की सोच क्या है राजनेताओं में दम क्या है, उसकी एक पहचान हो जाएगी। एक तरफ पूरी सरकार, पूरा मीडिया, व्यापारी जगत सबका ध्यान तीस तारीख रात को 12 बजे क्या होगा उस पर था। एक जुलाई क्या होगा उस पर था। 48 घंटे पहले एक लाख कंपनियों को कलम के एक झटके से हताहत कर दिया। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज से इनका नाम हटा दिया है। ये मामूली निर्णय नहीं है दोस्तो राजनीति के हिसाब किताब करने वाले ऐसे फैसले नहीं ले सकते हैं| राष्ट्र हित के लिए जीने वाले ही ऐसे फैसले कर सकते हैं। एक लाख कंपनियों को कलम के एक झटके से खत्म करने की ताकत देश भक्ति की प्रेरणा से आ सकती है। जिन्होंने गरीब को लूटा है उन्हें गरीब को लौटाना ही पड़ेगा।”

“इसके अलावा सरकार ने 37000 से ज्यादा 38 हजार से ज्यादा शैल कंपनियों की पहचान already कर ली है। जो कालेधन को छुपाना, हवाला करना, न जाने क्या करना इनके खिलाफ कठोर कार्रवाई के लिये कदम उठाए जा रहे हैं। कानून तोड़ने वाली कंपनियों के खिलाफ आने वाले दिनों में और कठोर कार्रवाई की जाएगी। और मैं जानता हूं कालेधन के खिलाफ एक कार्रवाई का फर्जी कंपनियों को खत्म करने का किसी भी राजनीतिक दल को कितना नुकसान हो सकता है मुझे पूरा पता है। लेकिन किसी न किसी ने तो देश के लिये लेना है यह निर्णय।”

“Chartered Accountants के Field के मेरे साथियों मैं आज आपके यहां आया हूं स्थापना दिवस पर आया हूं। मैं आपसे निवेदन करता हूं। बही को सही करने का जिसके हाथ में ताकत है। Demonetization के बाद कोई तो होगा न जिसने इन कंपनियों की मदद की होगी। ये चोर लुटेरे ये कंपनियां किसी न किसी आर्थिक डॉक्टर के पास जरूर गई होगी। मुझे पूरा पता है आप में से किसी के पास नहीं आई होगी। लेकिन कहीं तो गई होगी, जिनके पास गई क्या उन्हें उनको पहचानने की जरूरत पड़ेगी। और जिन्होंने ऐसे लोगों की उंगली पकड़ी हो जिन्होंने ऐसे लोगों को सहारा दिया हो, जिन्होंने ऐसे लोगों को रास्ता दिखाया हो, क्या आप में ऐसे लोगों को भीतर बैठे हुए लोगों को पहचानने की जरूरत है कि नहीं। उनको जरा किनारे करने की जरूरत लगती है कि नहीं लगती है। साथियों मुझे बताया गया है कि हमारे देश में दो लाख 72 हजार से ज्यादा Chartered  Accountants हैं। आपके साथ ‘articled assistants’ भी और उनकी संख्या भी करीब करीब दो लाख के बराबर है। और अगर हम सारे Chartered Accountants, ‘articled assistants’ असिस्टेंट आपके साफ सुथरे कर्मचारी इन सभी को जोड़ दें तो मेरा मोटा-मोटा अनुमान है कि ये संख्या आठ लाख से भी ज्यादा है। आपका परिवार इस फील्ड का परिवार 8 लाख से ज्यादा है। यानी के सिर्फ आपके प्रोफेशन में अब मैं आपके सामने कुछ और तथ्य रखता हूं क्योंकि आप आंकड़ों से बातें जल्दी समझ जाते हैं और समझा भी देते हैं।”

Comments

comments

SHARE
Previous article350 runners participated in 2nd Rain Tree Park Runner anniversary
Next articleUP CM visits Vedanta Nand Ghar at Kankariya village
India CSR Network
India CSR Network is India's biggest and most trusted news portal in the domain of CSR & Sustainability. India CSR welcomes stories, statements, updates, reports on issues that interest you. Feedback, comments will make it more purposeful and resourceful. It is designed and maintained by India CSR Group. Contents are non-fiction. Though all efforts have been made to verify the accuracy, the same should not be construed as a statement of law or used for any legal purposes. In case of any ambiguity or doubts, readers are advised to verify with the source(s). Statement, articles, views and contributions can be sent to editor@indiacsr.in