समग्र के सलाहकार मंडल में शामिल हुए रूसेन कुमार

0
643

स्वच्छता क्षेत्र के अग्रणी संगठन – समग्र सशक्तिकरण फाउंडेशन ने इंडिया सीएसआर नेटवर्क के संस्थापक और प्रबंध संपादक रूसेन कुमार को अपने सलाहकार बोर्ड के नए सदस्य के रूप में शामिल करने की घोषणा की। वह 8 जुलाई, 2018 को समग्र बोर्ड में शामिल हो गए। इस संस्था ने शहरी स्वच्छता के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है।

बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से विशेष सहयोग प्राप्त इस संस्था का मुख्यालय पूना में स्थित है। समग्र जो गरीब और कमजोर वर्ग के लोग जो सघन शहरी क्षेत्र में रहते हैं, उनके शौचालय निर्माण और रखरखाव तथा उनके जीवन-स्तर में सुधार की सेवाएं प्रदान करने के लिए समर्पित उद्यम है।

समग्र का नेतृत्व अशोक फेलोशिप प्राप्त स्वप्निल चतुर्वेदी करते हैं, जिन्होंने और अपने काम के लिए कई पुरस्कार जीते हैं। ग्रैंड चैलेंज कनाडा और फिक्की मिलेनियम एलायंस ने स्वच्छता में उनके ग्राउंड ब्रेकिंग काम के लिए समग्र का समर्थन किया है।

समग्र ने अगले 10 वर्षों में 10 करोड़ से अधिक शहरी गरीबों को प्रभावित करने का लक्ष्य रखा है। इसी लक्ष्य को हासिल करने के लिए संस्था ने रूसेन कुमार जैसे ख्यातिनाम उद्यमी को अपने निदेशक मंडल में शामिल किया है।

रूसेन कुमार एक दशक से देश में कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) को बढ़ावा देने के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। वह एक नालेज इंटरप्रेन्योर हैं और भारत के साथ साथ अंतरराष्ट्रीय सीएसआर क्षेत्र में थिंक टैंक के रूप में जाना जाता है। उन्हें भारत में कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (सीएसआर) के प्रचार में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए अंतर्राष्ट्रीय मंच पर प्रतिष्ठित सीएसआर व्यक्ति का वर्ष पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। वे कई संस्थाओं के सलाहकार मंडल के सदस्य हैं और कई उद्यमियों को आगे बढ़ाने में योगदान दे रहे हैं। रूसेन कुमार सीएसआर के साथ-साथ जनसम्पर्क, मार्केटिंग, ब्रांड, योजना क्षेत्र की गहरी समक्ष रखते हैं।

समग्र इंपावरमेंट फाउंडेशन के संस्थापक और सीईओ स्वप्निल चतुर्वेदी ने रूसेन कुमार की नियुक्ति के बारे में कहा, ” रूसेन कुमार जैसे सम्मानित व्यक्ति को अपने निदेशक मंडल में पाकर हम गर्व का अनुभव करते हैं। उनके अनुभव और ज्ञान से स्वच्छा के क्षेत्र में हमारे विस्तार कार्य को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी।”

Please follow and like us:

Comments

comments